Anand Wani

Anand Wani
Anand_R

Wednesday, 22 August 2018

वर्दी में भगवान..

मंदिर ,मस्जिद सब डूब रहे हैं,
वर्दी में भगवान घूम रहे है।
जात-पात की दूरी मिटा कर,
बिछड़े को अपने से मिला रहे हैं।
घर परिवार छोड़ पर्व त्योहार ,
आपदा से लड़ जीवन बचा रहे हैं।
मिटा कर गरीबी-अमीरी का फर्क,
किसी के लिए ढाल बन उसकी जिंदगी बच्चा रहे हैं।
देखो वर्दी में भगवान घूम रहे है....
                                                  :-आनंद

मेरी अतीत....